भोली माँ की अनचाही संतान

खुशबू जैन

भोली माँ की अनचाही संतान
(106)
पाठक संख्या − 13736
पढ़िए

सारांश

आज मेरी भोली माँ विदा हो गयी और साथ ही उनके दुःख और तकलीफें भी | उनको विदा कर के लौटा हूँ तो सारी जिंदगी एक फिल्म की तरह आँखों से गुज़र रही है, सोचा किसी से साँझा कर लूँ | शायद नाम कुछ अटपटा है मेरी ...
Basanti Khunte
बहुत ही प्यारी कहानी है ।
Sagar malhotra
bahut pyari Katha hai
Jitendra Upadhyay
bahut he sunder rachna.Abhinandan
Shalini Tripathi
बहुत प्यारी कहानी
कीर्ति प्रकाश
बेहतरीन रचना.. ख़ूबसूरत संबंधों की स्थापना
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.