भूलभुलैया (भाग एक)

सोनम त्रिवेदी

भूलभुलैया (भाग एक)
(162)
पाठक संख्या − 11656
पढ़िए

सारांश

ड्यूटी से आने के बाद आज नेहा के पापा बहुत खुश थे। चेहरे पर चौड़ी मुस्कान के साथ ही मिठाई का डिब्बा भी था। "क्या बात है नेहा के पापा आज आप बड़े खुश लग रहे है और ये मिठाई भी लाये हैं लग रहा है कोई ...
Krishan kant Dixit
बहुत सुंदर
रिप्लाय
Chandrashekhar markanday
एक अच्छी कहानी
रिप्लाय
Rajni Srivastava
pagal ladki bakwas hai neha ke papa neha ke papa ye sb Kya hai
रिप्लाय
NAZISH PARWEEN
very nice story 👌
रिप्लाय
विक्रांत कुमार
बहुत बढ़िया शुरुआत
रिप्लाय
Kavi Rohit Kumar
अच्छी लग रही हैं कहानी
रिप्लाय
Yakoob Khan
कहानी की बहुत बढ़िया शुरूआत की है आपने। अंत को रहस्यमयी बना कर छोड़ दिया। निश्चित रूप से आगे भी पढ़ने ही पढ़ेगा। देखना है कि आख़िर नेहा के साथ होता क्या है? 👌👌👍👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.