भूत

मुंशी प्रेमचंद

भूत
(632)
पाठक संख्या − 38862
पढ़िए

सारांश

मुरादाबाद के पंडित सीतानाथ चौबे गत 30 वर्षों से वहाँ के वकीलों के नेता हैं। उनके पिता उन्हें बाल्यावस्था में ही छोड़कर परलोक सिधारे थे। घर में कोई संपत्ति न थी। माता ने बड़े-बड़े कष्ट झेलकर उन्हें ...
Rakesh Poonia
अद्भुत रचना शक्ति
अरविन्द सिन्हा
विषयों से संचालित स्व सदैव मन पर भारी पड़ता है , को रेखांकित करती सुन्दर कहानी ।
Rakesh kumar Rastogi
मुंसी प्रेम चंद हिंदी साहित्य के सम्राट है मुंसी जी प्रत्येक रचना अद्वितीय है
shruti malhotra
kalyug main sub sambhav hi heart touching story
pintu processor
Namaste
रिप्लाय
अनीता स्नेहबंधन
वाह बहुत ही सुन्दर रचना
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.