भरवां भिंडी और करेले

सुधा अरोड़ा

भरवां भिंडी और करेले
(65)
पाठक संख्या − 1461
पढ़िए

सारांश

अकेली औरत पीछे लौटती है , बीसियों साल पहले के मौसम में जब वह अकेली नही थी , सुबह से फिरकनी की तरह घर में घूमने लगती थी , इसके लिए जूस , उसके लिए शहद नीबू , पलंग पर पड़ी बीमार सास तिपाई पर रखी उसकी ...
Poonam Aggarwal
एक औरत अपने को सम्पूर्ण अपने घर में ही पाती है । घर के छोटे मोटे काम करने में अपने अधूरेपन को भरती है ।गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर ने कहा है कि जब औरत मगन हो कर अपनी गृहस्थी के काम करती है तो उसकी देह से एक रागिनी सी फूटती है ।
Seema Rani
बहुत कमाल की कविता
aakriti
bhut bhut bhut sunder
neetu singh
बहुत खूबसूरती से स्त्री की व्यथाओं को समेटा है आपने शब्दो मे.
Ravindra Narayan Pahalwan
वाह / क्या बात है / पाठक पर पकड़ मजबूत है / बहुत खूब...
prabha malhotra
बहुत खूबसूरती से औरत की मनोदशा का चित्रण और वो भी सब्जियों के माध्यम से, साधुवाद, सरल शब्द परन्तु गंभीर अर्थ
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.