भंवर ***

Pawan Pandey

भंवर ***
(28)
पाठक संख्या − 4164
पढ़िए

सारांश

सुगंधा एक अजीब दो राहे में पर थी। एक ओर उसके सामने उसका सह कर्मचारी प्रोफेसर प्रकाश था जो उसे मन ही मन चाहता था,पर प्रकाश ने कभी भी अपने प्रेम का इजहार नहीं किया क्योंकि उसे डर लगता था कि ...
Rajkumari Mansukhani
next part
रिप्लाय
Damini
बहुत सुंदर प्रस्तुति है आपकी
रिप्लाय
रविन्द्र
बहुत सुंदर।कुछ कहानियों के संग्रह हमारे पास भी है।शायद आपको पसंद आये।
रिप्लाय
Dolly Arora
Nice 2 part please
रिप्लाय
Balveer Singh
mst
रिप्लाय
Nikita A Panchal
बहुत अच्छा
रिप्लाय
mukesh kumar
बहुत खूबसूरत प्रस्तुति
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.