बड़े दिल वाला मास्टर

Gaurav Kumar 'वशिष्ठ'

बड़े दिल वाला मास्टर
(99)
पाठक संख्या − 5246
पढ़िए

सारांश

घुप्प अंधेरी रात अपनी आधी जिंदगी जी चुकी थी, झींगुर भी बजते-बजते अलसा चुके थे, ठंढी हवा अपनी चुनर फैलाये मदमस्त होकर कुलांचे मारती जिस पेड़ के पास से सायं सायं कर गुजरती तो पेड़ भी अपना समूचा बदन हिला ...
Shikha Sharma
अच्छी कहानी । एक शिक्षक को ऐसा ही होना चाहिए ।
रिप्लाय
Beena Awasthi
गौरव जी आपकी कहानी बहुत अच्छी है , लेकिन आज का समय होता तो राधा जी के राकेश को पहचानते ही वो लोग परिवार में किसी को जीवित न छोड़ते।
रिप्लाय
Mridula Sharma
dusro ko dukhi karke aap khush nahi hoo sakte satya vachan
रिप्लाय
Ritu Pant Madhwal
shant or bhavpurna rachana .
रिप्लाय
Kritika Tiwari
nice story
रिप्लाय
Abhay pratap
बहुत ही उम्दा रचना निकली है सर आपकी कलम से। Best of Luck.
रिप्लाय
Nandini Sharma
amazing story ....
रिप्लाय
MAHANAND SINGH
ईश्वर तो सजा देता है , काफी देर कें बाद , सजा पाने वाले को मालूम ही नही रहता ! शेष कहानी बहुत अच्छी लगी !
रिप्लाय
Barkha verma
Bhot bdhiya story ya sty gtna
रिप्लाय
शिल्पी रस्तोगी
बढ़िया संदेश देती कहानी ...
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.