ब्राह्मण और तीन पुत्र

अज्ञात

ब्राह्मण और तीन  पुत्र
(70)
पाठक संख्या − 31677
पढ़िए

सारांश

अंग देश के एक गांव में एक धनी ब्राह्मण रहता था। उसके तीन पुत्र थे। एक बार ब्राह्मण ने एक यज्ञ करना चाहा। उसके लिए एक कछुए की जरूरत हुई। उसने तीनों भाइयों को कछुआ लाने को कहा। वे तीनों समुद्र पर ...
Kanta Asopa
betaal pacchici ke khani bhi acchi hoti hai
Shreya Bajpai
Very nice story 👏👏👏
r.goldenink
ye aapki to nahi hai...
Hardyal Singh Sodi
good
रिप्लाय
Maanov Poddar
It is good moralatic story and I suggest everyone to read this story. This also shows sensations... I enjoyed reading L
डॉ.रमाकांत द्विवेदी
Agyat ji apka adyan vistrit hai.apne betal pachisi total mains tatha lok kathao ka sundar varnan kiya hai air apna nam bhi nahi llikha isliye koti koti dhanyvad
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.