"बेटे का सौदा"

विकास कुमार

(38)
पाठक संख्या − 1261
पढ़िए

सारांश

(बेटे का सौदा) दीनानाथ उपाध्याय की माली हालत बहुत खराब थी। किसी तरह उन्होंने अपने बच्चों को पढ़ाया। उनके एक बेटा एवम एक बेटी थी। बेटे को दीनानाथ जी ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई कराई एवमं बेटी को बी.काम। ...
Shaline Gupta
दहेज़ लेना और देना दोनों गुनाह है।अति उत्तम लिखा है आपने।मेरी रचनाओं को पढने का समय निकाले व समीक्षा करे।
Kiran Singh
अच्छी प्रस्तुतिअ
मो नबी रॉयल
Ji bhai bht khoob__👍👍👈
Bhupendra Dongriyal
सुन्दर प्रयास,हार्दिक बधाई ।
करतार सिंह राजस्थानी
मानना पड़ेगा , रचना के भाव बेहड़ उम्दा है .....व्यक्ति की सोच भी भिन्न भिन्न होती है अंतिम रूप से खामयाजा तो खुद को ही भुगतना पड़ता है
नृपेन्द्र शर्मा
bahut sundar , samaz ko ek sandesh hai ye
रिप्लाय
Meera Sajwan
ऐसी कहानियां समाज के लिए दर्पण का कार्य करती हैं,
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.