बेटी तो पराई है

Rajni Braj gopal

बेटी तो पराई है
(23)
पाठक संख्या − 107
पढ़िए

सारांश

बेटी तो पराई है
Satya Prakash
वो दौर और था जो बेटी थी पराई, ये दौर और है बेटी स्वांस में समाई। मस्तक है बेटी बाप का मां का है कलेजा, जो बात ये न समझे उनमें भरी बेहयाई। 🙏🕉🙏 आप की सोच के लिए आप को नमन
Dr. Prem Krishna Srivastav
ऐ वक्त तुझे बदलना होगा बेटी को बेटे का दर्जा देना होगा। जो कहते बेटी तो पराई है उनका ही मानस बदलना होगा।।
Indira Kumari
बहुत बढियां
आनन्द त्रिपाठी
सितम न उठाने की दिशा में पहला कदम-रचना। मनसा और वाचा तो हो गया कर्मणा शेष है😊
Vijay Singh
एक किशोरी की आत्मव्यथा ।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.