बेटी एक माँ

अलका श्रीवास्तव

बेटी एक माँ
(331)
पाठक संख्या − 17982
पढ़िए

सारांश

खनाक!!! किचन से कप टूटने की आवाज आई अनामिका भागते हूए किचन में पंहुची। सामने रोज़ी सिर झुकाए खड़ी थी। अनामिका उसके ऊपर बरस पड़ी, "एक काम भी सही से नहीं कर सकती। टी सेट खराब कर दिया। मालुम है कितना ...
Gattu Sharma
sahi h assa hi hota but samzna muskil ho jata h
Aashu Jain
बहुत ही खूबसूरत रचना... 👌 👌 👌
Nishant Jha
कोई शब्द ही नहीं है,बहुत ही अच्छी रचना वाकई बेटी एक मां होती हैं यह बात मुझे मेरी 1•5 साल की बेटी को देख कर अहसास होता है।
Ashu Gulia
every word made me feel like I'm toolika n my mom is Anamika really grt work keep going dear
रिप्लाय
Shyamkumar Hardaha
बहुत ही शानदार कहानी. हर किसी को पढ़ना चाहिए.
Suman
Really very true
हरमन बराड़
👌👌👌 बेहतरीन
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.