बिन माँ का मायका

प्रीति राजपूत शर्मा

बिन माँ का मायका
(514)
पाठक संख्या − 19186
पढ़िए

सारांश

रसोई में काम करती माँ,बार बार अपने थके पैरो से इधर उधर भाग रही थी।आँखों में एक जल्दबाज़ी और सबको समय पर नाश्ता देंने की जल्दी।मैं अपनी चारपाई से बिस्तर से मुँह निकाल कर उनको अपनी अधखुली आँखों से झांक ...
Dhani Vyas
मन को छू ने वाली कहानी
Jyoti chauhan
very nice hrt touching
Neha Dwivedi
Raat k 1.30baje Rula diya hai is rachna ne maa love you humari maa swasthya rahen
Neha Agrawal
heart touching story
सरिता रूपेश कुमार
माँ के बिना जीवन की कल्पना भी नही कर सकते हैं।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.