बिकती शिक्षा

विनोद सिल्ला विनोद सिल्ला

बिकती शिक्षा
(5)
पाठक संख्या − 77
पढ़िए

सारांश

बिकती शिक्षा खरीद ले आजा। चाहे जो डिग्री ले मुन्ने राजा।। मना रहे हैं हम शिक्षक दिवस, निकाल के इस शिक्षा का जनाजा।। आठवीं तक होए फेल नहीं कोई, देखो इसका उदाहरण ताजा।। अंगूठा कटवाए एकलव्य फिरते, बज रहा भेदभाव का बाजा।। गली गली खुले हैं शिक्षण संस्थान, टके सेर भाजी टके सेर खाजा।। सिल्ला" इनको डोनेशन दे दे, वरना कालेज का बंद दरवाजा।। -विनोद सिल्ला
Vijaykant Verma
शिक्षा का सत्यानाश
रिप्लाय
Meena Rani
बहुत खूब
रिप्लाय
और्व विशाल
कडवा यथार्थ
रिप्लाय
आरती अयाचित
लाजवाब
रिप्लाय
अजीत मालवीया 'ललित'
बहुत खूब सर
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.