बाहर वाली क़ब्रें

कमल जीत सिंह

बाहर वाली क़ब्रें
(502)
पाठक संख्या − 15622
पढ़िए

सारांश

‘‘ये पुराने जमाने के राजा-महाराजा अपने किलों के मुख्य द्वार का रास्ता ऐसा टेढ़ा-मेढ़ा क्यों बनाते थे ? आजकल तो प्रवेश के रास्ते कितने सुन्दर, चौड़े और सीधे होते हैं।’’ ‘‘ इस एन्टरेंस, मेरा मतलब है, ...
Anju Bala
Nice near truth
रिप्लाय
kshnda anula
खूबसूरत लेखनी
रिप्लाय
Meena Sundriyal
very nice story. Aankho dekha haal lag Raha tha
रिप्लाय
Hema Ingle
वाह ! बेहतरीन लिखा है, नायाब कोशिश... आज के हालात को समझाने की पुरजोर कोशिश की है। Salute
रिप्लाय
Kavi Kaushik
शब्द नहीं मिल रहे क्या कहे!👌👍👏💐
रिप्लाय
Avinash Sharma
bahut achhi kahani,wahh.mza aa gya pdkr
रिप्लाय
Umesh Kumar
Bhut hi romanchak
रिप्लाय
amit kumar
Beautiful story
रिप्लाय
ramniwas
good
रिप्लाय
Davinder Kumar
पढ़ कर वास्तविकता का अनुभव हुआ और मजा आया
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.