बानी अनमोल

કલ્પના ચૌધરી

बानी अनमोल
(4)
पाठक संख्या − 329
पढ़िए

सारांश

बानी अनमोल बानी अनमोल हे, जीसका कोइ मोल नही. जो कीसी को हसाती हे, तो कीसी को रुला जाती हे. एक बार जबासे नीकलती हे फीर वापस जाती नही. एसी सुंदर बानी बोलीये, की खुद अपनी जबा को भी नाज हो उठे. सुंदरता ...
Vidya Sharma
sundr rachna lekin lekhn me vartni ki glti ko sudhar le to or bhi sundr hoga
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.