बहन पिया घर चली..

Abhishek Gupta

बहन पिया घर चली..
(7)
पाठक संख्या − 33
पढ़िए

सारांश

ओढ़कर जिम्मेदारी की चादर वो, आजादी का आंगन छोड़ चली अब तक बीते हर पल को यादों में संजो कर देखो, बहन पिया घर चली। खामोश हुआ चहचहाता, अब ये आँगन इसलिये कि, वो चिड़िया पिया घर उड़ चली। जिन्दगी की हर रीत जो ...
शशि कुशवाहा
very nice
रिप्लाय
Shaline Gupta
बहनो का प्रेम अनमोल तोहफा है।हृदयस्पर्शी लिखा है।
रिप्लाय
Sudha Gupta
wah
रिप्लाय
vishnu agarwal
wahh...supprrr👌👌
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.