बस प्यार और कुछ नहीं

भावना

बस प्यार और कुछ नहीं
(444)
पाठक संख्या − 69761
पढ़िए

सारांश

गाना सुनने के लिए रेडियो ऑन किया ही था कि तभी उसे एक चैनल पर वही पुराना गाना सुनाई दिया जो कि कोई सिर्फ उसके लिए गाता था- ''तू जो नहीं है तो कुछ भी नहीं है...ये माना कि मौसम जवाँ है हँसी है" और यह गाना सुनते-सुनते रिया अपने अतीत में गोता लगाने लगी।
Deepali Sharma
nice story BT aisa sirf kahaniyon me hi hota h
रिप्लाय
Neelam Jangra
very nice story .......👍👍💐💐
रिप्लाय
modi fan
बहुत ही अच्छी कहानी है ऐसे ही सबका प्यार मिल जाये
रिप्लाय
सनम
👌🏻👍🏻
रिप्लाय
shivani
nice but end filmy
रिप्लाय
Robin rajora
nice love story.....
रिप्लाय
Mohit Khare
very interesting
रिप्लाय
Yesh Sahu
nice
रिप्लाय
Vikas
Nishab.
रिप्लाय
Meenu Sharma
Very interesting n surpriseing love story 😍😍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.