बरसात में खौफ

इरा टाक

बरसात में खौफ
(184)
पाठक संख्या − 10517
पढ़िए

सारांश

बच्चे खेलने लगते हैं, पति घर के कोने में बनी बार से शराब पीने लगता है और औरत फ्रिज में खाने का सामान ढूढने को जैसे ही उसका दरवाज़ा खोलती है , जोर से चीख पड़ती है। फ्रिज में कटे हुए सिर, हाथ पैर रखे हुए थे। निशा वहीँ पहुँच गयी थी जैसे ! एकदम उसने तेज़ ब्रेक लगाया।
Deepak Ajaib
ji nahi abhi kuch kaam tha ....bus car hi chal rahi hai story me or kuch Ni
Pulkit Jain
Shukr Hai Kuch to drawna likhna shuru Kiya aapne ! it can be more haunted ! waiting for next story
Techy kushagra
beautiful aap bahut accha liktee hai
सूरज सिंह रावत
आपने तो सच में डरा दिया। 😨😨😨
Krishna Agrawal
gajab
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.