बब्बा का घर

पूजा व्रत गुप्ता

बब्बा का घर
(68)
पाठक संख्या − 6325
पढ़िए

सारांश

उस रात मेरी ट्रेन लेट हो गयी। घडी ने 10 भी बजा दिए थे। वक़्त के हिसाब से तो मुझे घर पहुँच जाना चाहिए था लेकिन मैं अभी भी अपने क़स्बे के स्टेशन से 3 स्टेशन पहले किसी आउटर एरिया में थी। आँखों में नींद ...
Sarika Gupta
very nice story... sahi mai purani yaadein bahut yaad aati h
Archana Varshney
बहुत सुंदर
Sandip Kumar
बब्बा का घर ने दिल को छू लिया ।
Neelam Bagri
rishto ki gahrai samjhati marmsparshi kahani
Nirmal Agarwal
दिल को छू लेने वाली कहानी
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.