बनना एक आतंकवादी का

हरीश जायसवाल

बनना एक आतंकवादी का
(10)
पाठक संख्या − 588
पढ़िए

सारांश

अचानक इस छोटे से शहर को क्या हो गया ?जिसे देखो दशहत में डूबा हुआ लग रहा है .हर शख्स तेज कदमो से अपनी मंजिल पर पहुँच कर सुरक्षित होना चाहता है .पुलिस की गाड़ियां चारों ओर सांय सांय करती हुई भाग रही है .
Rimjhim Jaiswal
समस्या प्रधान अच्छी कहानी
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.