बदलने के दौर में तुम न बदलना‬

अंकुर त्रिपाठी

बदलने के दौर में तुम न बदलना‬
(55)
पाठक संख्या − 8581
पढ़िए

सारांश

...अब बड़े हो गए हो तुम...! अच्छा करना सीख गए हो तुम ...!!
निजा
अच्छा था
रिप्लाय
Radhika Sharma
bahut achi kahani .. kaash sb mil jaye .. pr hota nhi h esa .. sab waisa nhi hota jo hm sochte .. pr apki kahani achi thi . .👌👌
रिप्लाय
ललित गौर
बहुत खूब ।।
रिप्लाय
smita pandey
bhut hi khubsurat khani h
रिप्लाय
Anju Chouhan
हकीकत है, हम जिसे चाह्ते है वही बेवफा निकला
आकांक्षा पांडेय
bahut hi Acchi story h.bas kisi ka pyar adhoora na rahe kbhi
Nitin Mittal
ताली बजाने का मन तो है ऑप्शन नही है
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.