बदलते रिश्तें

रीता गुप्ता

बदलते रिश्तें
(97)
पाठक संख्या − 7103
पढ़िए

सारांश

"आप चिंता न करे मैं स्टेशन से उनको रिसिव करती आउंगी,आप घर पर इंतजाम देख लें प्लीज" सुहासिनी ने अपने पति रवि को फ़ोन पर कहा.“ड्राईवर हटिया स्टेशन चलो, देखो आठ बजे ट्रेन आती है हम देर ना हो जाएँ” कह कर ...
Kalyani Jha
रिश्तों की डोर से बँधी अच्छी कहानी
रिप्लाय
ब्रजेंद्रनाथ मिश्रा
आदरणीया रीता गुप्ता जी, रिश्तों के रेशों से सजी बहुत सुंदर कहानी। आपने सारे पात्रों को इस छोटी सी कहानी में बहुत अच्छी तरह पिरोया है। आपमें सृजन की अद्भुत क्षमता है। आपके साहित्य को ऊंचाइयों तक पहुंचाने की हार्दिक शुभकामनाएँ और कहानी के लिए साधुवाद! आप इसी साइट पर मेरी अन्य रचनाएँ, खासकर कहानी "तुम्हारे झूठ से मुझे प्यार है" अवश्य पढ़ें और अपने विचार दें। आप marmagyanet.blogspot.com पर मेरा ब्लॉग विजिट करें और मेरे रचना संसार से अवगत होकर अपने विचार दें। मेरा एक उपन्यास "डिवाइडर पर कॉलेज जंक्शन" Amazon के इस लिंक पर ऑनलाइन खरीद के लिए उपलब्ध बै। इसे आप ₹93*₹40 डिलीवरी चार्ज देकर अपने घर मँगवा सकते हैं। link:http://amzn.to/2Ddrwm1 मेरा लिखा कहानी संग्रह "छाँव का सुख" अमेज़न किंडल पर ई बुक के रूप में इस लिंक पर उपलब्ध है: Link: https://amzn.to/2IboioB मेरा लिखा कविता संग्रह "कौंध" भी ई बुक के।रूप में Amazon kindle के इस लिंक पर उपलब्ध है: कौंध: हिंदी कविता संग्रह (Hindi Edition) Link: https://amzn.to/2KdRnSP किंडल पर ई बुक को इसतरह डाऊनलोड करें: ऊपर दिए गए लिंक पर आप क्लिक करेंगें तो आपको अमेज़ॉन के किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग के साइट पर ले जाएगा। वहाँ आप "Buy now with one click"पर जैसे ही क्लिक करेंगें, आपको पेमेंट ऑप्शन पर स्क्रीन खुलेगा। आप अपने क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, या वालेट जैसे paytm, फ़ोनपे या bheem app से भी ₹69 या विदेशी मुद्रा में $1 पेमेंट कर डाऊनलोड कर सकते हैं। (कहानी संग्रह "छाँव का सुख" के लिए या राशि ₹50 है) इसके लिए आप अमेज़न का किंडल app डाउनलोड कर लें। डाउन लोड होते ही किंडल अप्प पर read now पर क्लिक करें और पूरी किताब कभी भी पढ़ें, हमेशा के लिए। आप यूट्यूब के मेरे channel : marmagya net पर जाकर मेरी रचनाओं के ओडियो और वीडियो को देखें, लाइक करें और subscribe भी करें। Facebook link: https://m.facebook.com/public/Brajendranath-Mishra Twitter link: Take a look at BRAJENDRA NATH MISHR (@bnmish): https://twitter.com/bnmish?s=09 सादर आभार ब्रजेंद्रनाथ
रिप्लाय
Kiran Singhal
bhut acchi
रिप्लाय
Subodh Pandey
Bahut khub, aakho me aansu aa Gaye , Sabse acchi bat aap ne jis tarah kahani ka samapan Keya ,Usne dukh ke aansu Ko Kushi ke aansu me Badal deya,
रिप्लाय
Rekha Valia
good
रिप्लाय
Uma Garg
nyc story
रिप्लाय
राहुल गर्ग
बेटी बी बेटा जैसा आपने माता पिता का सेवा करती हैं
रिप्लाय
shalu choudhary
great
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.