बदलते रिश्तें

रीता गुप्ता

बदलते रिश्तें
(71)
पाठक संख्या − 6287
पढ़िए

सारांश

"आप चिंता न करे मैं स्टेशन से उनको रिसिव करती आउंगी,आप घर पर इंतजाम देख लें प्लीज" सुहासिनी ने अपने पति रवि को फ़ोन पर कहा.“ड्राईवर हटिया स्टेशन चलो, देखो आठ बजे ट्रेन आती है हम देर ना हो जाएँ” कह कर ...
Rekha Valia
good
रिप्लाय
Uma Garg
nyc story
रिप्लाय
राहुल गर्ग
बेटी बी बेटा जैसा आपने माता पिता का सेवा करती हैं
रिप्लाय
Shalu Agrawal
great
रिप्लाय
ritik sharma
nice
रिप्लाय
Geeta Ved
beautiful story
रिप्लाय
रमेश शुक्ला
Ma'am करुण रस से सराबोर है ये कहानी
रिप्लाय
Asmi Srivastava
lovely story
रिप्लाय
Santosh Kumar Gupta
बेहद खूब
रिप्लाय
काजल अर्याल
बेहद अच्छा लगा पढकर।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.