बदलते रिश्तें

रीता गुप्ता

बदलते रिश्तें
(62)
पाठक संख्या − 5887
पढ़िए

सारांश

"आप चिंता न करे मैं स्टेशन से उनको रिसिव करती आउंगी,आप घर पर इंतजाम देख लें प्लीज" सुहासिनी ने अपने पति रवि को फ़ोन पर कहा.“ड्राईवर हटिया स्टेशन चलो, देखो आठ बजे ट्रेन आती है हम देर ना हो जाएँ” कह कर ...
Geeta Ved
beautiful story
रिप्लाय
रमेश शुक्ला
Ma'am करुण रस से सराबोर है ये कहानी
रिप्लाय
Asmi Srivastava
lovely story
रिप्लाय
Santosh Kumar Gupta
बेहद खूब
रिप्लाय
काजल अर्याल
बेहद अच्छा लगा पढकर।
रिप्लाय
Manisha Jain
bahut sundar stri jeevan ka varnan kiya
रिप्लाय
Raja Raja
very nice
रिप्लाय
Ravi Rawat
Bahut achi kahani hai rita ji. Aaj kal to betiyan hi parivarvalo ka saath nibhati hai.
रिप्लाय
Harshita Dayal
waah Reeta ji waah..👍👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.