बचपन और बच्चन

और्व विशाल

बचपन और बच्चन
(76)
पाठक संख्या − 1364
पढ़िए

सारांश

हमारे देश की सभ्यता और संस्कृति में जिस प्रकार रामायण और महाभारत का प्रभाव है, वर्तमान में हिन्दी फिल्मों का भी वैसा ही योगदान . .....
Tihom Og
बहुत अच्छी
Rakesh Kumar chaurasia
bhut achi story
रिप्लाय
DEEPA SONI
बहुत अच्छा
Vijaykant Verma
हमने स्कूलों में लेख पढ़ा है, साहित्य समाज का दर्पण होता है । बहुत इंपॉर्टेंट निबंध है यह । पर इस निबंध से भी ज्यादा इंपोर्टेंट निबंध यह है-" चलचित्र समाज का दर्पण होता है" क्योंकि जितना असर चलचित्र का पड़ता है बालको पर , युवाओं पर , और पूरे समाज पर, इतना प्रभाव साहित्य का नहीं पड़ता। यह एक कटु सत्य है । इस सच को आप माने या ना माने, पर आपका दिल जरूर मानता है आप जुबान से बोले या ना बोले , पर यही हकीकत है। इसीलिए साहित्य से ज्यादा हमें फिल्मों पर ध्यान देने की जरूरत है। फिल्में अच्छी होंगी तभी समाज में सुधार होगा..!!💐💐
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.