बचपन और जवानी

दीपक कश्यप

बचपन और जवानी
(96)
पाठक संख्या − 5672
पढ़िए

सारांश

बचपन का छोटा सा हिस्सा और किस्सा
Aashiq Ali Rayeen
सही कहा ।क्या खूबसरत दिन थे वो ये दौलत भी लेलो यह शोहरत भी ले लो भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी मगर मुझको लौटा दो.....
Nàaz Ansari
bachpan to bachpan hi hota he use kabhi bhulaya nhi jata mummy hi marti thi or mummy mummy karke hi rote the kya din the wo
Rashmi Shah
bahut sunder bachpen ki batei
mannu
every moment of childhood is priceless and was the part of life when we express our expression properly
NAVIN GUPTA
वाह , बचपन और जवानी का बहुत ही अच्छा चित्रण किया है । बचपन हर ग़म से बेगाना होता है ।
Usha Sharma
बचपन की याद करा दी कहानी ने,जिन्दगी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा
Sudesh Sharma
Bauth bdiya ji Dil ke bilkul aas pass, Nice post
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.