बकौली का पेड़

अज्ञात

बकौली का पेड़
(142)
पाठक संख्या − 18149
पढ़िए

सारांश

पुराने समय की बात है। एक राजा था। वह बड़ा समझदार था और हर नई बात को जानने को इच्छुक रहता था। उसके महल के आंगनमें एक बकौली का पेड़ था। रात को रोज नियम से एक पक्षी उस पेड़ पर आकर बैठता और रात के चारों ...
Sanjay Thakur
बोहोत संदर
munmun
chori ki Rachna...
Satendra Aryan
अति सुंदर कहानी
Ravi Rai
pure chutiyaap..aap se aisi umeed na thi
मनीष त्रिपाठी
अत्यंत सुंदर रचना
सिद्धार्थ अरोड़ा
वर्तनी की खामियां हावी थीं। बाकी अच्छी पौराणिक कथा।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.