बंजारन की आत्मा का राज़( भाग दो)

सोनम त्रिवेदी

बंजारन की आत्मा का राज़( भाग दो)
(87)
पाठक संख्या − 5707
पढ़िए

सारांश

अगले दिन पंडित जी और दो मजदूरों को बुलाया गया ताकि उस कोठरी को गिरवाया जा सके। पंडित जी ने सबके माथे पर केसर का तिलक लगाया और हाथों में अभिमंत्रित की हुई मौली(कलावा) बांधा ताकि किसी को नुकसान न ...
Aghori Totke tantra News Channel
आवरेज
रिप्लाय
mubark usmani
bahut achchhi..khubsurat kahani..Sonam Jee Ka kahani kahne Ka andaj .BHI bahut ..Sundar..
रिप्लाय
Deepak Rathor
अति सुंदर
MUNNA
शानदार जबरदस्त जिन्दाबाद
Shaziya Siddiqui
plss upload next part
रिप्लाय
Yogita Garg
👌👌
रिप्लाय
विजित शर्मा
कहानी थोड़ी बड़ी होती तो रोमांच और ज्यादा अच्छा लगता। वैसे चरम पर रोमांच पहुंचा कर आपने जो क्रमशः लिखा है, वह अगले भाग की उत्सुकता बहुत बढ़ा चुका है।
रिप्लाय
Manminderjit Kaur
bhut achi story hai plz next part jldi post kre
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.