बंजारन की आत्मा का राज़( भाग दो)

सोनम त्रिवेदी

बंजारन की आत्मा का राज़( भाग दो)
(44)
पाठक संख्या − 2172
पढ़िए

सारांश

अगले दिन पंडित जी और दो मजदूरों को बुलाया गया ताकि उस कोठरी को गिरवाया जा सके। पंडित जी ने सबके माथे पर केसर का तिलक लगाया और हाथों में अभिमंत्रित की हुई मौली(कलावा) बांधा ताकि किसी को नुकसान न ...
अमजद हुसैन अंसारी
जी बहुत दिलचस्प है ये कहानी 👌👌👌😍😍😍✍️✍️✍️
Pooja Arora
awesome story ..waiting for next part
Kiran Singh
बड़िया कहानी का आगे का भाग जल्दी पोस्ट करिये।
कुलदीप सिंह हुडडा
रोमांचक होने के साथ साथ डरावनी भी होती जा रही है कहानी।
रिप्लाय
anupam kumar
कहानी छोटी है पर अच्छी है।
रिप्लाय
Bhushan Patil
very nice
रिप्लाय
Nikita Panchal
बहुतखुब
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.