फ्लैट नंबर २१३(अंतिम भाग)

Sagar Mehta

फ्लैट नंबर २१३(अंतिम भाग)
(92)
पाठक संख्या − 2909
पढ़िए

सारांश

जेसे ही रवि के बारे में सनाया को पता चला वो तुरंत वैभव के पास आ गई ... दूसरे दिन सुबह ..सविता उनलोगो के घर आई .. आइये सविताजी !! सनाया ने अंदर आने का इशारा करते हुए कहा वैभव के दोस्त के साथ जो हुआ ...
NAZISH PARWEEN
very nice and amazing story
रिप्लाय
lucky paliwal
Bahut h shandar kahani
रिप्लाय
Neha
bhut hi achhii horror and moral story h .👌👌👌👌👌👌👌
रिप्लाय
sakshi Jain
nice story sir 1,2,3,4
रिप्लाय
Mëhå Gupta
very intresting story
रिप्लाय
Yakoob Khan
सरला की आत्मा को आखिर मुक्ति मिल ही गई।बहुत मनोरंजक कहानी।
Shweta
wonderful story...very well written....
रिप्लाय
स्वाती श्रीरामे
👌 👌 message oriented and horrible ... 👍 👍
शुभा शर्मा
कहानी मजेदार है।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.