फैसला

Anuj Bhandari

फैसला
(3)
पाठक संख्या − 8
पढ़िए

सारांश

पहला भाग:ख्वाहिश जब जब बच्चा जन्म लेता, तब-तब  माँ- बाप के दिलों मे ख्वाहिशें उमड़ती, कोई उसे   डॉक्टर  बनाने के सपने देखता, तो कोई इंजीनियर। लेकिन वह क्या बनेगा , फिलहाल यह तो ...
Vikashree Kemwal
खूब भुला , ज़िन्दगी ऐसी ही। है, अक्सर जो सोचते हैं , सरपट भाग जाता है , लेकिन हाथ नहीं आता
रिप्लाय
आईदान सिंह
बहुत सुंदर 👌👌👍👍👏👏
रिप्लाय
संतोष नायक
'ख्वाहिश व तुलना'?बिल्कुल नयी रचना शैली।रचना 'फैसला'अच्छी लगी।
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.