प्रेम न बाङी उपजे.......

alka

प्रेम न बाङी उपजे.......
(5)
पाठक संख्या − 1145
पढ़िए

सारांश

प्यार जरूरी नहीं वहाँ मिले जहाँ हम इसे ढूंढते हैं । इसे मोल नहीं ले सकते, चुरा नहीं सकते, और जब यह मिले तो छुपा भी नहीं सकते। यह आत्मा का एक सुखद बंधन है।
Asha Shukla
बेहद खूबसूरत रचना,!!!!!👌👌👌👌💐💐💐💐💐💐
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.