प्रेम गली अति सांकरी...

शील निगम

प्रेम गली अति सांकरी...
(95)
पाठक संख्या − 31823
पढ़िए

सारांश

"मीता तुम फ़ौरन चली आओ, मेरा जी घबरा रहा है।" "पर हुआ क्या दीदी?" "मैं फ़ोन पर नहीं बता सकती, तुम बस आ जाओ।" अपनी बड़ी बहन सुनयना की घबराई हुई आवाज़ सुन कर मीता अपने क्लीनिक का सारा काम छोड़ कर अपनी ...
DINESH L. JAIHIND
अति सुंदर कहानी, हॉरर जैसी ! बधाई हो !
रिप्लाय
S S TIWARI
अच्छीकहानी,बहुत दिनो के बाद पढ़ा।चंदन की बिन्दी,नंदन का सिंदूर,चंदन का वास,और बड़ी बात ये कि,प्रेम गली में 2का समा जाना,भले ही दिखावे के लिए,बढिया कृति,बधाई ।
रिप्लाय
Prachi Arora
Kahani shuru KAHA se hui or khatam kahA se kuchh taal mail hi nai hiya
रिप्लाय
ASHA MISHRA
pure love
रिप्लाय
Pooja Garg
real Love....pyr aise hi hota h ...
रिप्लाय
Jugraj Dhamija JD
बकवास कहानी। एक पढ़ी लिखी नोकरी वाली औरत अपनी , अपने बच्चे और अपने देवर की जिंदगी खराब कर रही है। जब आज के समय की पढ़ी लिखी नौकरीपेशा औरत समाज से लड़ने की हिम्मत नही दिखा सकती तो अनपढ़ गरीब औरतों का क्या होगा। और मेरे ख्याल से तो असल मे प्रताड़ित नन्दन हुआ है जिसे पहले एक बच्चे की माँ से शादी करनी पड़ी। जिसे शायद अपने भतीजे का चेहरा देख कर वह मान गया होगा पर उसे पति वाला कोई हक नही मिला जिस कारण वह खुदकशी तक कर गया और फिर वह औरत उसे तलाक तक नही दे रही। उस बेचारे पुरुष के बारी में किसी को दया भी नही आई होगी। और शायद न ही किसी ने उस के हालातों पर कोई कमेंट किया होगा
रिप्लाय
Hridayram Gupta
Nice स्टोरी
रिप्लाय
Priya Singla
Very nice
रिप्लाय
Shobha Chauhan
beautiful story
रिप्लाय
Rekha Jain
बहुत सुन्दर
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.