प्रतिलिपि के साथी

CP Jangra

प्रतिलिपि के साथी
(7)
पाठक संख्या − 23
पढ़िए

सारांश

लिखते हो साहित्य, खूब मन बहलाते हो। प्रतिलिपी पर साथियो, आप खूब तहलका मचाते हो। मुद्दे गजब उठाते हो, खूब ज्ञान बढ़ाते हो। जब कभी उदास होता हूँ, मनोरंजन भी कराते हो। एक के बाद एक कहानी, श्रृंखला लिखते ...
सरोज वर्मा
बहुत सुंदर पंक्तियां,
रिप्लाय
रविन्द्र
🍓🌿🌿🍁🍁बहुत सूंदर रचना🌿🌿🌿🌿🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
kuldeep singh
Good.
रिप्लाय
शहला अंस।री
शानदार
रिप्लाय
Rajendra Kumar Shastri 'Guru'
वाह!! कहीं भाई ये मुझ पर तो नहीं लिख दी.. मजाक था। अन्यथा मत लीजिएगा। 😂😂🙏
रिप्लाय
मल्हार
बहुत बहुत बेहतरीन 👏👏👏
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.