प्रतिपालक

विजय 'विभोर'

प्रतिपालक
(34)
पाठक संख्या − 10221
पढ़िए

सारांश

पण्डित भगवानदास जी का भरा पूरा परिवार है। परिवार में सात बेटे, बेटों की पत्नियाँ। पन्द्रह पोते–पोतियों की किलकारियों के संगीत से हर वक्त एक मनोहारी वातावरण घर में बना रहता है। पण्डित जी स्वयं को ...
Manisha Raghav
मानवीय संवेदनाओं से पूर्ण कहानी
Dr Kamal Satyarthi
This happens most of the times when the near relatives refuse to donate blood for patient and an unkniwn person ir wven a healt worker or doctor donates it.
Annapurna Mishra
भावनाओं के चाशनी से लिपटी एक अच्छी कहानी,लेकिन ऐसे रामदिया नहीँ मिलते हैं और न ही अब इतना भरा पूरा परिवार ही मिलता है--शायद साथ में सहयोग नहीँ होने के कारण ही।
Renu Dhingra
Yahi hota hai real ma bhi
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.