प्यार या बदला

Girish Kumar Gumashta

प्यार या बदला
(2)
पाठक संख्या − 83
पढ़िए

सारांश

वह मेरे साथ ही काम करती थी, उस कार्यालय में उसने मेरे बाद ज्वाइन किया था ,पहली नजर में ही वो मुझे काफी अच्छी लगी थी,क्योंकि उसके अलावा वहां दो महिलाएं और भी थी जो कि  केवल काम में ही यकीन रखती थी,ऐसा ...
Jyoti Nigam Gumashta
pyar jab tak pyar h tabhi tak pyar h ,warna badle me badlane me der nahi lagti
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.