प्यार या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर

DrSonika Sharma

प्यार या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर
(188)
पाठक संख्या − 44880
पढ़िए

सारांश

आज उसने कितनी आसानी से कह दिया कि आज तक जो तुम्हारे बारे में सोचता था वह सब गलत था । ये शब्द अब तक मेरे कानों मे सुई की तरह चुभ रहे है । तुम्हे कैसे समझाऊँ अंश आज तुमने क्या कहा और क्यों कहा ? अब तक ...
shobhana tarun saxena
nicely written about the dark phase of extra marital affairs.. 👏pl do read my stories too🙏
रिप्लाय
एड. यादव शुभेन्द्र
अधूरी सी लगती है....
Saurabh Jain
अक्सर ऐसा ही होता है हम प्यार करते है पर जाहिर नही करते इसलिए अधिकतर प्रेम कहानी शुरू होने से पहले ही दम तोड़ देती है
bishan singh
is tarh ke ristey ka koi महत्व नही होता
Sikandar Tiwari
कुछ कमी सी रह गई....... ending not clear
Seema Thakur
दोनों पात्र कन्फ्यूज हैं,,,,,, उन्हें खुद ही नहीं पता कि उन्हें क्या चाहिए एक दूसरे से। इतना गहरा प्यार था तो शादी क्यूं नहीं की। और जब की तो भी अपने अपने जीवन साथी को धोखा क्यूं देने लगे। कहानी का कोई ओर-छोर नहीं दिखा। समाज का कोढ़ हैं ऐसे अनैतिक रिश्ते लेकिन अगर कहानी लिख रहे हैं तो इसका कोई ऐसा असरदार अंत दिखाना चाहिए कि लोगों को इससे कोई सबक हासिल हो। आधी अधूरी सी बात कहने का कोई तुक नहीं बनता।
Ragini Singh
hamare samaj ki sachai hai ye kahani.nice story
Sunanda Agnihotri Roy
Lekhika ko nayika k nirnaya ko bata kar kahani ka sampan karna tha jisase kuch vishesh rahata
Jyoti Panchal
यही जीवन जंहा कई बार अनचाहा "चाहत" बन जाती है बहुत उम्दा कहानी ,हमारे समाज का हिस्सा है ये सब और ये भी सच है शादीशुदा जीवन मे समपर्ण और सच की जगह ही होना चाहिए
Sangita Ajmera
kya h ye kuch ssmagh nhi aaya
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.