प्यार का एक रंग यह भी

सुधा आदेश

प्यार का एक रंग यह भी
(163)
पाठक संख्या − 11568
पढ़िए

सारांश

अभी वह कालेज से आई ही थी कि मोबाइल घनघना उठा...असमय सुजाता का फोन आया देखकर वह चौंकी थी । एक वही तो थी जिससे अपनी हर बात शेयर कर सकती थी...उससे अगर एक दिन भी बात न हो तो खाना ही हजम नहीं होता था । ...
Rishabh Shukla
very nice
रिप्लाय
priya
very heart touching story
रिप्लाय
Vijay Kumar
बहुत ही उम्दा और दिल छूने वाली रचना शायद यही असली प्यार है जहां दो जिस्म एक जान है...
रिप्लाय
Manju Gautam
sirf ashrupaat heyday ko chhoo gyi rhnx
रिप्लाय
Sakshi Chaudhary
कहने के लिए शब्द ही नहीं है .... 👌👌👌👌
रिप्लाय
Saurav Bhargav
vv heart touching
रिप्लाय
राजेश सिन्हा
दिल को छू लेने वाली कहानी। सही भी है प्यार तेरे हजारो रंग। 👍👍
रिप्लाय
Nikki Agrawal
extremely superb story....
रिप्लाय
Usha Garg
ओहो बस शब्द भी लगता है आँखो के पानी मे बह गए
रिप्लाय
Hemant Verma
एक अच्छी कहानी, पारिवारिक रिस्ते ऒर आपसी प्यार को दर्शाती।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.