पे टी एम लड़की(भाग3)

arvind kumar

पे टी एम लड़की(भाग3)
(19)
पाठक संख्या − 372
पढ़िए

सारांश

अपना जन्मदिन नेहा ने बड़ी धूम धाम से महंगे होटल में मनाया था,सब दोस्तों ने खूब तारीफ की थीऔर अब नेहा भी अनीता की तरह अब एक अभ्यस्त पे टी एम लड़की बन चुकी थी जिसका मतलब ऑनलाइन पेमेंट करके लड़कियों को ...
Neha Chauhan
बहुत ही सुन्दर ढंग से आपने इस कहानी को पेश किया है, और साथ में यह समझाने में भी कामयाब रहे है कि अपने माता-पिता पर भरोसा करें, और गलत रास्ते पर जाने से बचें।
रिप्लाय
सुभाष मंजु
आया तो आपको समझाने था , पर आपकी रचना अच्छी लगी और हिम्मत देने वाली। और इसके साथ ही आपकी मानसिकता का भी पता चला की आपने वहा ऐसा क्यों लिखा। जय राम जी की।
रिप्लाय
Ajay Gupta
बहुत ही बढ़िया है और सभी को इससे सबक लेना चाहिए अगर हम गलती कर देते हैं तो अपनी गलती को स्वीकार करे
रिप्लाय
𝕧𝕚𝕛𝕒𝕪 ⓢⓞ-ⓛⓤⓒⓚⓨ
छोटी सी भुल बड़ी समस्या खड़ी कर देती है, बिलकुल वैसे छोटी सी समजदारी बड़ी समस्या से छुटकारा भी दे जाती है।
Uday Veer
well well well mind blowing lajabab story hai Kabil'e tarif
रिप्लाय
Usha Garg
टीनएज में बच्चे ऐसी गलती कर जाते है राम रतन जैसा समझदार पिता हो तो
रिप्लाय
Amit Mishra
कहानी का अंत बहुत बढ़िया है। अगर बच्चो के पैर फिसल जैन तो उनका साथ देना चाहिए न कि उनको डांट मार कर अकेला छोड़ देना चाहिए ।।।लेकिन आजकल के मा बाप अपने बच्चो पर अंधा विश्वास करके और उन्हें पूरी आजादी देकर भी भारी गलती कर रहे हैं
रिप्लाय
पूनम रानी
बहुत अच्छा लिखा आपने
रिप्लाय
Jatin Kant Singh
inspirational story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.