पूर्ण"श्रीरामगाथा"

सुनील आकाश

पूर्ण
(65)
पाठक संख्या − 5587
पढ़िए

सारांश

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से लिखी एक तर्कसंगत रामकथा। कपोल कल्पनाओं और अतिशयोक्तिपूर्ण वर्णन के बिना एक गरिमापूर्ण रामकथा। "प्रतिलिपि" पर पूरी रामकथा एक साथ प्रकाशित। (उपन्यास)
Sarita singh ch
आपने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है, राधे कृष्णा
रिप्लाय
Dinesh Chand Vaishy
Good
रिप्लाय
S S Chauhan
sir ramji ke bare Mai bahut accha likha hai lekin 72 and74 part nahi hain
रिप्लाय
Hemant Saxena
god tussi great ho
रिप्लाय
shashin bamorya
to much details and lenthy
रिप्लाय
Sanjeev Maan
I m not able to read it as it is opened in pratilipi app....help me
रिप्लाय
Mishra Op
राम कथा को एक मिथक से निकाल कर सामाजिक एवं वैज्ञानिक कसौटियों पर कसने का आपका साहसिक प्रयास अभिनंदनीय है। मन को त्रिप्त करने वाली आपके इस प्रयास के लिए साधुवाद।
रिप्लाय
Brijesh Kushwah
बहुत ही उत्तम वैज्ञानिक दृष्टि से लिखीं गई रचना,जैसी में पढ़ना चाहता था........ मगर एक समस्या आ रही है कि में इस ऐप पर पढ़ नहीं पा रहा हूं क्योंकि ऐप में कुछ खामियां इसलिए यदि यह पुस्तक और कहीं उपलब्ध है तो मुझे जरूर बताएं जल्द से जल्द क्योंकि में इस ऐप को डलीट कर रहा हूं
रिप्लाय
mohanlal agarwal
ago urban.
रिप्लाय
गुलाब हलवाई
उत्तम एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण, लेखक अपने उद्देश्य में सफल
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.