पुण्यप्रभाव

राम गणेश गडकरी

पुण्यप्रभाव
पाठक संख्या − 1018
पढ़िए

सारांश

मंगलाचरण (सरस सीस मुगुट मार.) प्रभुपदास नमित दास मंगलमात्रास्पदा वरदा सदवनिं लव यदवलंब विलंब न करि हरि दुरिता सौख्य वितरि ॥धृ.॥ सारस्वतचरणकमल-। दलिं विरहत कविमंडल दुर्लभ ते दिव्य स्थल। पंकनिरत। राम ...
रचना पर कोई टिप्पणी नहीं है
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.