पिशाचों की बेटी - 6

Bhushan Patil

पिशाचों की बेटी - 6
(172)
पाठक संख्या − 8173
पढ़िए

सारांश

अमित, मिहिर ओर ऊर्वशी तीनो अब सूर्यवंत महल के पास पहोच गए थे। बाहर से काले पत्थरो का महल था ओर शेरो की बड़ी बड़ी मुर्तिया थी। ऊर्वशी = दरवाजा तो कही नजर नही आ रहा? जरा किताब में देखो। अमित = अंदर लिखा ...
Ravi Soni
very very nice
रिप्लाय
Nikhil Godara
आपकी कहानी बिना तो जग सुना सुना लगता है।
रिप्लाय
NAZISH PARWEEN
👌👌👌
रिप्लाय
Angel Bajpai
bahut galat hua Amit ke sath
रिप्लाय
Neelam Chauhan
नाईस
रिप्लाय
Dinesh kumar
very good
रिप्लाय
Amratansh Pandit
Awesome Story...
रिप्लाय
Silky Dhawan
Amit ko kyu mara
रिप्लाय
Mahesh Sharma
थोड़ा कंफ्यूज इंग सै
रिप्लाय
Tullsiram Jaiswal
बहुत शानदार आगे भी ऐसी रचनाएं पढ़ने को मिलेंगी इसी आशा के साथ ़धन्यवाद
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.