पिशाचों की बेटी - 5

Bhushan Patil

पिशाचों की बेटी - 5
(148)
पाठक संख्या − 6491
पढ़िए

सारांश

मिहिर ओर ऊर्वशी को यकीन नही हो रहा था। अचानक ये क्या हो गया था। अमित ऐसे कैसे कर सकता है। बिजलियां कड़कना रुक गयी थीं। अमित अब फिर साधारण बन गया था। अब उसको जवाब देना था कि वो कोन हे? मिहिर = अमित ये ...
NAZISH PARWEEN
👌👌
रिप्लाय
निकिता
awesome story
रिप्लाय
Neelam Chauhan
मस्त है
रिप्लाय
Dinesh kumar
very good
रिप्लाय
Silky Dhawan
great story
रिप्लाय
Mahesh Sharma
जबरदस्त
रिप्लाय
Anuradha Pachwariya
bohot badiya
रिप्लाय
sgsgdg shgdg
bahut hi acchi story
रिप्लाय
utkarsh anand
iska Baki part Kahan milega
रिप्लाय
A*J_ RAPER
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.