पिता : एक पुत्र की नज़र से-------

Harish Pandey

पिता : एक पुत्र की नज़र से-------
(96)
पाठक संख्या − 24146
पढ़िए

सारांश

बाल कृष्ण शर्मा जी हिंदी लेखन जगत की नामचीन हस्तियोँ में शुमार थे। जितनी परिपक्व उनकी सोच उतनी ही आकर्षक उनकी लेखन शैली। हाँ थोड़े अपरंपरागत जरूर थे पर उनको पढ़ो तो स्वछंदता का ज़ायका ज़हन को तरोताज़ा कर ...
Sudha Chaturvedi
गरीब का सच है। इस कहानी में जो जीवन मुन्नी को मिला भी हर गरीव को नहीं मिलता
Shyam Sharma
दुनिया में इससे अच्छा कुछ हो ही नही सकता बहुत ही अच्छा
Mukta Batra
gahan chintan se upaji rachna
रिप्लाय
Mithilesh Kumari
मां का ममत्व और पिता का वरदहस्त उसे आगे बढाता है।
Utkarsh Agrawal
बहुत अच्छे
रिप्लाय
Ishwar Thakur
So so
रिप्लाय
anup
Bahut hi achi rachna...
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.