पिज्जा- और छेदीलाल

प्रेमपाल शर्मा

पिज्जा- और छेदीलाल
(56)
पाठक संख्या − 7845
पढ़िए

सारांश

पता नहीं, कब छेदीलाल के दिमाग में पिज्‍जा चिपका कि लंदन जाकर जमकर पिज्‍जा खाएंगे । यदि हो सका तो रोज सिर्फ पिज्‍जा ही । चलते वक्‍त जब सभी ने बारी-बारी से कहा कि खाने-पीने का ध्‍यान रखना तो वह बड़ी ...
Ishaan Ansari
hahaha..very funny...
Dipali Pandey
बहुत ही अच्छी कहानी है। पिज़्ज़ा के साथ जिन मुद्दों पर बात की गयी है, वही सबसे अच्छा पहलू है।
रिप्लाय
Inder meena
average
रिप्लाय
demand parashar
bahut aachi
रिप्लाय
Veda Prakash
बहुत खूब
रिप्लाय
Rupesh Kinake
nice story
रिप्लाय
रमेश मेहंदीरत्ता
व्यंग्य और हास्य प्लस बहुत कुछ है
रिप्लाय
ishwar kumar Janghel
good story sorry English me type karna pad raha hai but nice story
रिप्लाय
Manoj Chandel
very good
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.