पिंडर का भैरव

पंकज' चौहान

पिंडर का भैरव
(127)
पाठक संख्या − 7096
पढ़िए

सारांश

मेरी पोस्टिंग कर्नप्रयाग हुए तीन महीने हो गये थे। मुझे याद है पहले पहले मुझे यहां कितना सूना सूना महसूस हुआ था। छोटा पहाड़ी कस्बा, लोकल भाषा भी अलग।  लोग हांलाकि हिंदी समझते थे पर बोलते कम ही थे। ...
Anil Kashyap
एक बात समझ नही आई कि भानुमती राजकुमारी होते हुए भी घास लेने क्यों गयी 🤔🤔 बाकी कहानी अच्छी है 👌👌👌
रिप्लाय
hazari sanjeev
बहुत दिलचस्प।।स्वागत है।
रिप्लाय
Sonia Sharma
amazing story
रिप्लाय
Vandana Pandey
theek hi hai
रिप्लाय
Akanksha Dikshit
बहुत रोचक कथानक
रिप्लाय
Babita Mahar
very gud
रिप्लाय
Santosh Bharti
nice
रिप्लाय
Gayatri Goyal
adbhut or rochak hqeeqst Anand a Gaya Parker agle part ke intezar Mai Gayatri goyal dhnyebad
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.