पापा की बात ...

मोनिका बोरान

पापा की बात ...
(199)
पाठक संख्या − 13030
पढ़िए

सारांश

मैं समान्यतया किसी से लड़ती नहीं पर आज जो भी हुआ था वो मेरे गुस्से को बढ़ाने के लिए काफी था ... घर वालो ने ये कह के बाहर भेजा था की बेटा गुस्से को काबू मे रखना बाहर जा रही है और मैं ममी की इस बात पर ही ...
shanu ansari
DUNIYA ME KEWAL MAA BAAP HI HOTE HAI JO APNE BACHCHO KE BAARE ME KABHI GALAT NAHI SOCH SAKTE AUR BACHE KO APNI MAA BAAP KA VISWAS KABHI TUTNE NAHI DENA CHAHIYE. THANK YOU MONIKA AAPKI STORY BAHUT ACHA LAGA.
Madhu Nagar
बहुत ही बढ़िया है
Samta Parmeshwar
अच्छी कहानी है
डालू राम
बहुत खूब, कुछ चीज़ों का मोल नहीं होता वो अपने आप में अनमोल होती है
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.