पापा की बात ...

मोनिका बोरान

पापा की बात ...
(219)
पाठक संख्या − 13827
पढ़िए

सारांश

मैं समान्यतया किसी से लड़ती नहीं पर आज जो भी हुआ था वो मेरे गुस्से को बढ़ाने के लिए काफी था ... घर वालो ने ये कह के बाहर भेजा था की बेटा गुस्से को काबू मे रखना बाहर जा रही है और मैं ममी की इस बात पर ही ...
Shivangi Marar
bhut achi Kahani 👍👍 I like it 😊
Rajkumar Yadav
अब बच्चे पापा के गिफ्ट को सिर्फ रुपयों से लाया हुआ एक सामान समझते है।
Nirupa Verma
love you dear,,, very nice story and lovely 💓 touching story,,,kya baat h lovely,,, it's amazing story,,,sach me papa hote hi aise h ki aapki bhut hi baato ki Bina bole hi samjh hate h ,,, love you papa,,, thanks for the story dear......
Prabhati Sharma
एक पिता किसी भी लङकी का पहला प्यार होता है और उसकी ही छवि वह अपने जीवनसाथी में चाहती है ।पिता की तुलना किसी से नहीं की जा सकती ।
shanu ansari
DUNIYA ME KEWAL MAA BAAP HI HOTE HAI JO APNE BACHCHO KE BAARE ME KABHI GALAT NAHI SOCH SAKTE AUR BACHE KO APNI MAA BAAP KA VISWAS KABHI TUTNE NAHI DENA CHAHIYE. THANK YOU MONIKA AAPKI STORY BAHUT ACHA LAGA.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.