पागलों की बस्ती

अभिधा शर्मा

पागलों की बस्ती
(519)
पाठक संख्या − 8849
पढ़िए

सारांश

पागलों की बस्ती... ये कहानी है हम दो पागलों की,हम दो मतलब... राहुल और कृति की।कृति से मेरी मुलाकात उस पागलखाने में ही हुई थी जिसमें मुझे इलाज के लिए ले जाया जाता था... न तो मैं पागल था और न ही कृति ...
Sagar Trar
achchi nhi lgi ye story
Vandana R.k. choubisa
AAP ki sabhi rechnaye bhot achi Hoti he. muje AAP ki sabhi rachano se pyar hogya he. meri Avantika or kenvas pe bikhre rang to Mene 10 bar se bhi jyada bar pedh li he. AAP ki Avantika ka next part jaldi laye.
Suman Gaur
aapki lekhni ko shat shat pranam.
Anand Parkash Aggarwal
सच्चाई बहुत ही कड़वी होती है। इस कहानी में एक दूसरे को समझने की जरूरत है। कहानी के माध्यम से बहुत कुछ समझाने की कोशिश करी है। बहुत ही खूबसूरत कहानी.... 💕💕💕💕
Archana Varshney
4अलग तरह की कहानी
मोहित बघेल
बेहद खूबसूरत कहानी It's Too Good
noor
interesting story par sahi bhi ha ,,,,⭐⭐⭐⭐⭐
Shibbu Singh
Ap kitna accha likhti h
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.