पाखी

अन्नदा पाटनी

पाखी
(4)
पाठक संख्या − 101
पढ़िए

सारांश

पाखी के बुलंद हौसले के सामने उसका अपंग होना घुटने टेक गया । उसकी साहस भरी पूरी उड़ान उसके समान अनेक लड़कियों और लड़कों के लिए प्रेरणादायी मिसाल बन गई ।
Punita Buch
सुन्दर अभिव्यक्ति हमेशा की तरह तरह परंतु दूसरे अध्याय में वही कहानी दोहराई है ।कहानी मन को छूने वाली है ।
रिप्लाय
Mukesh Duhan
Very nice ji
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.