पाखी- एक

Sham

पाखी- एक
(22)
पाठक संख्या − 653
पढ़िए

सारांश

उन्हें एकांत देने के लिए सड़क को बड़े बड़े साल के वृक्ष दोनों ओर से घेरे हुए हैं.. गुनगुनी धूप पत्तों से निकल उसके गालों को छू रही हैं.. हवा अपने झोंकों में कहीं से खुशबू घोल लायी थी.. आज उसने अपना फ़ेवरेट मैरून साड़ी पहन रखी है.. वो सूट से ज्यादा खूबसूरत साड़ी में लगती है..
Neha Neha
kafi acchi story h👌👌
रिप्लाय
priya
nice story..
रिप्लाय
Aarti Soni
kya sach me pati ese hote ha
रिप्लाय
SUSHMA
nice story
रिप्लाय
Rohit Paikra
बहुत प्यारी स्टोरी
रिप्लाय
komal
nice.. 👌👌
रिप्लाय
Vaibhavi Sharma
ज़िंदगी की हकीकत आपकी लेखनी से 👌
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.