पहली मुलाकात

लता शर्मा "सखी"

पहली मुलाकात
(82)
पाठक संख्या − 22421
पढ़िए

सारांश

जीवन के रंग अजीब होते हैं, हर रंग से सराबोर, कभी दुख तो कभी सुख। अंजलि की जिंदगी भी ऐसी ही थी। खुशी का एक रंग मिला और वो ही रंग उसकी बर्बादी की वजह बन गया। एक ही रंग मिला था उसे जिंदगी से और वो था ...
shyam kishore
रोमांस काम है लेकिन सिखाती काफी कुछ है
रिप्लाय
Karuna Bansal
बहुत सुंदर कहानी
रिप्लाय
Manu Prabhakar
लता जी बहुत ही शानदार और प्रेरणादायक रचना। महत्वाकांक्षाएँ आदमी को कहाँ तक पहुँचा देतीं हैं और कहाँ तक गिरा भी देतीं हैं । इंसान को बातों से पहचानना वाकई मुश्किल है ।
रिप्लाय
अंशु शर्मा
bahot badhiya likha
रिप्लाय
Yash Raj
Pratilipi pe mere dwara padhi gayi aaj tak ki sabse best story
रिप्लाय
Manju Thakur
Mtlb duniya hai logo ko kisi bhavnao ki koi kadra nhi log to bs apna swarth dekhte hai
रिप्लाय
Shobha Chauhan
matlabi log h
रिप्लाय
Mohit Ranjan
वैरी नाइस
रिप्लाय
Avni Dixit
बहुत अच्छी कहानी काश अंजली पहले समझ लेती नितिन का असली चेहरा
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.