पहला प्यार

सुनीता माहेश्वरी

पहला प्यार
(82)
पाठक संख्या − 7225
पढ़िए

सारांश

जून का महीना था | गर्मी अपनी पराकाष्ठा पर थी | धूल भरी गर्म हवायें जीना दूभर कर रही थीं | ऐसे में पचास वर्षीया नलिनी बाज़ार में कुछ देर में ही थक गई थी | गर्मी के कारण उसका गला सूख रहा था | पता नहीं ...
Aparna Garg
अधूरा प्यार सच मे जीवन भर सताता है, सुंदर कहानी
meenakshi bhardwaj
nice story
रिप्लाय
Arivesh Kumar Rathor
so nice
रिप्लाय
Sushma Rasal
nice
रिप्लाय
नीता राठौर
ज़िंदगी की सच्चाई यही है। जो अप्राप्य है वही हमेशा अंतर्मन में रहता है ।किंतु नायिका ने अपनी दुनिया को अच्छे से सहेजा है ये अच्छी बात है।
Mohd Kaif
kismet walo ko milta he aisa Sacha. pyar aur kisiko ye bhi nhi milta he very very nice
रिप्लाय
Vijeta Sharma
pahala pyaar hota he aisa hai....
रिप्लाय
Amit Kumar
वाह बहुत अच्छा लगा।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.