पहला कदम

अंजलि 'सिफ़र'

पहला कदम
(207)
पाठक संख्या − 10709
पढ़िए

सारांश

इस कहानी में समस्या विशेष को ना उठा कर उस कारण पर ध्यान दिलाया गया है जिसकी वजह से ज़्यादातर समस्याएं उत्पन्न होती हैं। यानि बच्चों का माता पिता से बात ना कर पाना। इसी में निवारण भी छुपा है हर समस्या का। बचपन से लेकर शादी हो जाने के बाद तक भी बच्चों की समस्याएं ख़त्म नहीं होती , केवल रूप बदलती हैं । उन सभी समस्याओं के हल की शुरुआत शायद यही है।
Sudhir Kumar Sharma
अद्भुत
रिप्लाय
Praveen Kumar Shrivastava
Bahut अच्छी कहानी
Ritu asooja Rishikesh
सुंदर रचना
रिप्लाय
Devendra Dev
कहानी अधूरी सी लगी ।
Archana Varshney
बहुत बढ़िया
अरुण गौड़
सच है बच्चो को डर से नही प्यार से समझना चाहिए, बहुत ही खूबसूरत कहानी। very nic Anjli ji..👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.