पगली

Kumar durgesh Vikshipt *Vaishnav*

पगली
(64)
पाठक संख्या − 273
पढ़िए

सारांश

पगली कुमार दुर्गेश "विक्षिप्त" (जिन्हें मेरे 'विक्षिप्त' नामकरण का श्रेय जाता, ये चन्द                      अल्फाजं उनके लिए ) ## वक्त ने इस बार फिर सितम ढा़या, जो तुमसे मिलन हो आया, तु अहसास हैं ...
Bhavin Patel
very nice..... superb....
रिप्लाय
Neha Mishra
बहुत खूब 👌👌👌
रिप्लाय
neetu singh
Superb
रिप्लाय
Rachna Singh
Deep
रिप्लाय
Archana Maheshwari
awesome
रिप्लाय
Ritvika Kashyap
very nice
रिप्लाय
राहुल टोकसीया
अति सुन्दर रचना
रिप्लाय
Bindu Dalwadi
Beautiful...👌👌
रिप्लाय
nidhi Bansal
nice one
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.